Hasya Kavita

Hasya Kavita in Hindi, Hasyakavita, Funny Shayari, Funny Hindi Poems, हिन्दी हास्य कविता, हास्य कविता

275 Posts

202 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4683 postid : 361

HASYA KAVITA IN HINDI यह है इस देश की हालत: हास्य कविता

Posted On: 20 Mar, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इस देश में मजबूरी का नाम महात्मा गांधी है यह तो सबको पता था लेकिन अब लगता है कि हमें मजबूरी का नाम महात्मा गांधी से बदल कर यूपीए सरकार रखना पड़ेगा. ज्ब इस देश का भला करने वालों को मंत्री पद से हटा कर भ्रष्ट लोगों को कुर्सी पर बैठा दिया जाता है तो उनसे और क्या उम्मीद की जा सकती है.


funny-pics-for-facebook31हाल ही में रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी को हटाकर मुकुल राय को देश का रेल मंत्री बनाया गया है, मुकुल राय वहीं भ्रष्ट इंसान है जिसने असम में गुवाहटी-पुरी एक्सप्रेस के पटरी से उतरने की घटना का वहा जाकर जायजा लेने से इंकार कर दिया. अपनी छूट्टी खराब ना हो जाए इसलिए इन्होंने घटनास्थल का दौरा ही नही किया था. क्या कहने ऐसे महापुरुषों के बारें में.


खैर छोड़िए और मजा लीजिए एक बेहतरीन हास्य कविता का


यह है इस देश की हालत: हास्य कविता


देश में विकास के नाम पे
कौन-कौन से खेल हो रहे हैं
देश कंगाल, और नेता-अफसर
मालामाल हो रहे हैं
अरे कोई तो बताये
ये कैसा हिन्दुस्तान है !

लूट लूट के लुटेरे
मालामाल हो रहे हैं
लुट लुट के अस्मित
तार तार हो रही है
अरे कोई तो बताये
ये कैसा हिन्दुस्तान है !


नोटों से खरीद के वोट
नेता चुनाव जीत गए हैं
फिर गरीबों के सीने पे
सरेआम मूंग-पे-मूंग दल रहे हैं
अरे कोई तो बताये
ये कैसा हिन्दुस्तान है !

कल जिन्हें साईकिल
खरीदने के लाले थे
वे आज साईकिल वालों को
स्कार्पिओ से रौन्धते चल रहे हैं
अरे कोई तो बताये
ये कैसा हिन्दुस्तान है !


कल जिन्हें बस का सफ़र
मुश्किल लगता था
वे आज हवाई जहाज से नीचे
पैर नहीं धर रहे हैं
अरे कोई तो बताये
ये कैसा हिन्दुस्तान है !

शराबी, कबाबी, कबाड़ी,
चोर-उचक्के, गुंडे-मवाली,
भ्रष्टाचारी, नाकारे-निकम्मे
सारे-के-सारे बंदर-बांट कर रहे हैं
अरे कोई तो बताये
ये कैसा हिन्दुस्तान है !!!


REAL AND FUNNY IMAGE OF UP

Read More Hasyakavita, funny poems, ashok chakradhar ki hasyakavita, kaka hathrashi ki hasya kavita, hindi poems etc.



Tags:                           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (36 votes, average: 3.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

varsha के द्वारा
November 11, 2012

this poem is very nice


topic of the week



latest from jagran