Best Web Blogs    English News

facebook connectrss-feed

Hasya Kavita

Hasya Kavita in Hindi, Hasyakavita, Funny Shayari, Funny Hindi Poems, हिन्दी हास्य कविता, हास्य कविता

275 Posts

200 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

HASYA KAVITA FOR KIDS IN HINDI: बचपन की मार

Posted On: 20 Dec, 2012 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आजकल दिल्ली में सर्दी का माहौल है. सुबह सुबह उठा तो पाया कि आज ठंड ज्यादा थी. अभी इसी उधेड़बुन में था कि चाय पिया जाए या कॉफी तभी बचपन की यादों में दिल उलझ गया. सोचा क्यूं ना आज हास्यकविता में बचपन को याद कर लें तो लो कर लिया अपने बचपन को याद. यह बचपन भी अजीब था ना दोस्तों. हम चलते हैं काम पर आप मजा लीजिए  हास्य कविता का.


टीचर जी!

मत पकड़ो कान।

सरदी से हो रहा जुकाम।।

लिखने की नही मर्जी है।

सेवा में यह अर्जी है।।

ठण्डक से ठिठुरे हैं हाथ।

नहीं दे रहे कुछ भी साथ।।

आसमान में छाए बादल।

भरा हुआ उनमें शीतल जल।।

दया करो हो आप महान।

हमको दो छुट्टी का दान।।

जल्दी है घर जाने की।

गर्म पकोड़ी खाने की।।

जब सूरज उग जाएगा।

समय सुहाना आयेगा।।

तब हम आयेंगे स्कूल।

नहीं करेंगे कुछ भी भूल।।


HINDI HASYAKAVITA, HASYAKAVITA IN HINDI, HINDI FONT, HASYAKAVITA IN HINDI FONT, SCHOOL BOYS HASYA KAVITA, HASYAKAVITA FOR STUDENTS IN HINDI FONT, SCHOOL KAVITA, HINDI KI HASYA KAVITA, ASHOK CHAKRADHAR



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (70 votes, average: 4.26 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • Share this pageFacebook0Google+0Twitter0LinkedIn0
  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ayushi के द्वारा
November 30, 2014

nice!!!!

dimple yadav के द्वारा
December 10, 2013

The poems are good but you should mention the writer also . They are funny too.

hardik के द्वारा
December 10, 2013

nice sites for poems




  • ज्यादा चर्चित
  • ज्यादा पठित
  • अधि मूल्यित