Hasya Kavita

Hasya Kavita in Hindi, Hasyakavita, Funny Shayari, Funny Hindi Poems, हिन्दी हास्य कविता, हास्य कविता

272 Posts

200 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4683 postid : 574

Hindi Hasya Kavita - विज्ञापनों का मकड़जाल: हास्यकविता

Posted On: 28 Jan, 2013 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कभी – कभी मेरे दिल मैं ख़याल आता है !
यार ये विज्ञापन हमें इतना क्यों लुभाता है !
छोटा सा विज्ञापन कुछ ऐसा चक्कर चलाता है !
की बड़े से बड़ा ज्ञानी भी इसके चक्कर मैं फंसकर,
क्षण मैं ही समझो जैसे घनचक्कर बन जाता है !
पर अगले ही पल इस पगले मन मैं विचार आता है !
की यार इन विज्ञापनों का सच्चाई से क्या नाता है ?
और जब भी ये सुविचार हमारे भोले मन मैं आता है !
तब फट से हमारा ध्यान हमारे मित्र रामदुलारे पर जाता है !
क्योंकि रामदुलारे को जो भी विज्ञापन ज्यादा रिझाता है !
अगले ही दिन रामदुलारे वो चीज अपने घर ले आता है !
और चीज इस्तेमाल के बाद खुद को ठगा सा पाता है !

ऐसे ही अमूल माचो का विज्ञापन रामदुलारे को बहुत भाया !
अगले ही दिन रामदुलारे इसकी दो चडडियां घर ले आया !
उसने सोचा चलो आज अपनी रामदुलारी को खूब हंसाएंगे !
और अमूल माचो पहन कर हम भी बड़े टोइंग हो जायेंगे !
मगर जैसे ही रामदुलारे ने अपनी सिक्स पसली बॉडी दिखाई !
रामदुलारी को हंसी नहीं रामदुलारे पर बहुत ज्यादा गुस्सा आई !
बोली अरे इतनी सर्दी मैं अपने पसलियाँ मुझे क्यों गिनवा रहे हो !
बिलकुल चड्ढी पहनके फूल खिला है के मोगली नजर आ रहे हो !
उफ़ विज्ञापन मैं जिस चड्ढी को पहन बन्दर भी टोइंग हो जाता है !
उसी चड्ढी को पहन हमारा रामदुलारे रामदुलारी की डांट खाता है !
तब सोचता हूँ मैं क्या इस विज्ञापन का हकीकत से कोई नाता है ?
रामदुलारी की डांट खा रामदुलारे ने अमूल का टोइंग उतार फेंका !
और पूरे एक महीने तक टीवी पर कोई भी विज्ञापन नहीं देखा !

मगर एक दिन फिर उसे हिमानी नवरत्न तेल ने जाल मैं फंसाया !
और हमारा गंजा मित्र गंजापन दूर करने की एक शीशी ले आया !
बोला अपने वीरान बंजर टकले पर बालों की फसल उगाऊंगा !
अभी सब राकेश रोशन कहते हैं, फिर ऋतिक रोशन कहलाऊंगा !
रामदुलारे ने अपने टकले पर खूब मल मल के वेह तेल लगाया !
मगर बालों की फसल तो दूर हलकी सी घास भी नहीं उगा पाया !
और करवाचौथ के दिन जब रामदुलारे अपनी छत पर घूम रहा था !
बहीं दूसरी छत पर एक शराबी भी नशे मैं मस्त हो झूम रहा था !
तभी उस शराबी ने रामदुलारे के टकले पर टार्च की रोशनी मारी !
जिससे चकमा खा गई मोहल्ले की चाँद ढूंढती हर पतिव्रता नारी !
क्योंकि रामदुलारे का टकला जैसे ही टार्च की रोशनी मैं आया !
पूरे मोहल्ले मैं शोर मच गया पूजा कर लो चाँद निकल आया !
अब बताइए जिस तेल को लगाकर मॉडल पल मैं बाल बढाता है !
मगर हमारा रामदुलारे फिर भी करवा चौथ का चाँद नजर आता है !
तब सोचता हूँ मैं क्या इस विज्ञापन का हकीकत से कोई नाता है ?
फेयर लवली कहती है दो हफ़्तों मैं अपना रंग गोरा बनाइये !
मैं कहता हूँ २ साल दिए रजनीकांत को गोरा करके दिखाइए !
सोना बेल्ट लाइए १५ दिन मैं अपना वजन ३० किलो तक घटाइए !
पहले तारक मेहता के डॉक्टर हाथी को पोपटलाल बनाकर दिखाइए !
विज्ञापन कहता है एक्स इफेक्ट लगाइए चाहे जिसे पटाइये !
मैं कहता हूँ इसका जादू कभी रामदेव बाबा पर भी चलाइए !
बच्चन से लेकर तेंदुलकर तक सभी टीवी विज्ञापन मैं आते हैं !
कुछ बच्चों को चॉकलेट तो कुछ युवाओं को पेप्सी पिलवाते हैं !
और खुद १ मिनट के विज्ञापन से करोड़ों की दौलत कमाते हैं !
कम्पनी वाले इनसे अपना घटिया माल बढ़िया दाम मैं बिकवाते हैं !
और कुछ विज्ञापन तो अब इतने अश्लील आते हैं !
जिन्हें सभ्य परिवार साथ मैं देखने से भी शर्माते हैं !
चूँकि बच्चों मैं शर्म अब बची नहीं बड़े ही अपनी नजरें बचाते हैं !
कभी विज्ञापन पर बच्चों के सवाल पर उठकर बाहर चले जाते हैं !
फिर भी ये विज्ञापन आम आदमी को इतना क्यों लुभाते हैं !
जिसे देखकर बड़े – बड़े, बुद्धिजीवी भी घनचक्कर बन जाते हैं !
घनचक्कर बन जाते हैं…………………… घनचक्कर बन जाते हैं !


साभार: ऑलराउंडर जी

TAG: HASYA KAVITA, HINDI HASYA KAVITA, HINDI KAVITA, HASYA KAVITA , HINDI HASYA KAVITA, VYANG, HINDI VYANGYA



Tags:           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran